Tuesday, December 13, 2011

They are land owners, on paper only

A Decade On, Scores Of Dalit Families Await Possession

 Kankubai, 45, wife of late Ganpatlal Balai, received information in 2002 that the government had allotted around 1.5 acre land under a scheme. She thought it would give a respite, from the daily grind and drudgery, to her family struggling hard to meet both ends. A decade on, her struggle is far from over for the small piece of land she is â˜proud owner of.
Even I do not know, where the plot exists because no official came to clarify all these issues, she said, adding that they went to tehsil and district office many times, seeking help of officials, but they continued to offer excuses. Kankubai hails from Keshwal village of Taran tehsil in Ujjain district.

Similarly, Mohan Balai, son of Dhulji Balai, died after a protracted battle for his rightful land, but to no avail. He was the resident of Nanded village in neighbouring industrial Dewas district. Elder brother of the deceased, Babulal Balai said Mohan had even his plot measured, but denied the ownership yet. The then SDM did earmark the boundary and permitted him to start cultivation on the land. However, when he went to get possession, the ‘encroachers’ threatened him with dire consequences. The experience came as a shock to him, a patient of tuberculosis, resulting in his death after some time, said Babulal. It came as a shattering blow to the family. His wife went to her maternal family with her two-year-old son.

These are not only isolated examples in the state. There are thousands like him, still fighting to get their rightful ownership.
In the Bhopal declaration held at the state capital on January 12 and 13 in 2002, the state government prepared 21-point action agenda for empowerment of Dalits.
According to the agenda, the government had said it would ensure "Each dalit family will own enough cultivable land for socio-economic well-being. The government should pursue all possible measures including the distribution of surplus land, government revenue land and temple land within a specific timeframe. If the need be, the government should purchase cultivable land and distribute it among the dalits." The land was distributed till December 2002, but only on paper.
Madhya Pradesh Bhoomi Adhikar Abhiyan (MPBAA) convener Asif Sheikh said, "We came to know about the issue only when people had come to us for help. As a result, we sought information through the RTI on the issue. What emerged was nothing short of a major shock."
Many dalits were struggling to get land they were entitled to. However, fearing social boycott and threat to life, they lost hope to get the ownership.
It was then the MPBAA began looking for detail and found that the Congress-ruled government in 2002 had distributed around 7 lakh acre to 3,44,329 Dalit families, he said, adding the government had passed an order to this effect on March 2, 2002. Here are the details of land distribution till December 2002.
Distributed land
Scheduled Caste
447861.16 acre
Scheduled Tribe
250715.72 acre
698576.88 acre

Referring to the list, Asif said many families are struggling to get land. He said, around 2,06,597 families out of 3,44,329 in the state are having difficulty in getting land possession.
Efforts to contact Dr Devraj Birdi, principal secretary, scheduled caste welfare, proved futile.

Friday, May 6, 2011

village has got a firing zone even but no water

Anticipating that water would be accumulated in the well in the night in some amount, people of Barkheda village in Hoshangabad rush to the well in wee hour trying win the race to the well from the other villagers.

Seems strange, but this is the fact for the people of Barkheda village Hoshangabad, because they know that if they fell to get water in this duration , they won’t have a single drop of water to quench their thirst the following morning till their neighbours don’t come forward for their help.

The village has got a firing zone even but no water. The villagers have complained to the concerning authorities umpteen times but it could not change anything.

A villager says our village has a military proof range where firing practice goes on for the whole day which causes big problem to the people but even that has not ensured the water supply to the people of here.

The villagers say that recently they had a marriage ceremony in their village in which they bought the water from the other areas like the other essentials.

Villagers here claim that there is sufficient water under the ground, but the hand-pumps, the local authorities have got installed are not working as they are not bored that deeper. And then lack of maintenance also adds to it.

Similar is the condition with wells of the village. People say that had the authorities made a bit more effort, problems could have been solved. Recently, a well was dug under NREGA, but as we are quite familiar with deep rooted problem of the country, rains dragged back all the soil in into the well. The reason to this was the apathetic approach of the authorities who were responsible for its maintenance and were supposed to cement its boundary did never felt the requirement of doing so.

One thing, I would like to mention here. I called the Sarpanch of the village (Rambhau Patel- 9009078226) and informed him about my profession. After initial dilly-dallying, (I am riding bike, please call me later), he promised me that the water crisis would be solved tomorrow. I have said that if the situation will not improve, I will call to the district collector. Let’s see, how true his promise for tomorrow is!!

Wednesday, April 20, 2011

Victims of keeping red book

I know few people who have decorated their almirah with books related to Marx and communism and many similar books. Even I have read few of them.

Ironically, more than 100 people are in jail only for keeping such books in their possession. The draconian law has endangered their life for the very same crime, what a lot of us are doing in routine life. In an interview to The Hindu, Dr Binayak Sen has said, I realised while I was in prison is that there are hundred of people who are in exactly the same legal situation as I am. I fear that governments are using this law as a short cut to imprisoning people.”

According to the  definition of these governments, we could be imprisoned anytime and we are safe only till, we are not posing any threat to these cruel functionaries on any issue, be it a virtual one.

Though, the Apex Court of the country has given its verdict in the favour of Dr Sen, saying “We are a democratic country. If Gandhian literature is found on some one, it doesn’t make him a Gandhian. He may be a Naxal sympathiser but that doesn’t make him guilty of sedition”. The court also observed that possession of Naxal literature is not a proof of sedition. The court termed him sympathiser of Naxal movement, nothing beyond that.

This is good slap against the Chhattisgarh government and as usual it has said that it respects the decision. But, how could it justify the period of more than four months that Dr Sen has spent in prison.

Sometimes it comes to my mind, how two different bench of judges can give different verdicts, quoting same law. If any judge commits mistake, that could be proved turmoil for a person. Who is the responsible for such kind of behaviour? I am using the word mistake, but we all know it is not appropriate here. We feel that all decisions were taken under pressure of very aggressive Chhattisgarh government towards Naxal sympathiser.

I feel very sorry for those judges, who have not faced even a minor negative consequence of their wrong doing. It will result in the form of continuation of all those prisoned at present for similar the charges.

Arundhati Roy in an interview to a news channel said, “What happens is that it underlines the fact that Dr Sen was being made an example of; and the terror that reigns in Chhattisgarh remains so. Because, how many people have those lawyers? And have the ability to come to the Supreme Court? How many people are there poor, unnamed and named, under the very same laws for even less reasons? But they cannot come up and get bail. In some ways, it is a very necessary thing that has happened today. And in other ways it is worrying because we have so many people who don't have access to the Supreme Court.”
So, who is going to fight for those imprisoned for keeping only red books (symbolic)? Many Nobel awardees people have signed in the favour of Dr Sen to put pressure on the government. There was some campaign in a section of media also to consolidate the pro-Sen movement. Even after all these efforts, the State government was not ready to melt at any cost. What about those, who cannot represent themselves on fore or even, come in the scene! 

Monday, April 18, 2011

Doubt: A Unifying Force

Saw, Doubt, a movie by the John Patrick Shanley, released in the year 2008, which depicts the importance of ‘doubt’. In the very beginning of the movie, Father of a church in a sermon says, “Doubt can be a unifying force similar to the faith”.

Sister Aloysius (Meryl Streep), the strict principal of the attached school, has some sort of rivalry with the Father and she puts question mark on the sermon given by the father regarding ‘doubt’. She is quite strict in her nature and is very stuck to certain beliefs.

With the rivalry between these two authorities, John Patrick Shanley,         Director of the movie has tried to check the importance of two different values. His side is quite clear, even then he has succeeded to force viewers, stuck to the chairs throughout the movie.

Contradiction in the beliefs between these two personalities, have been shown in the movie through very simple incidents and examples, which interests the people. Vide, whether the Principal forces students to cut their nails, the Father says, if you think it is looking better, so keep it clean. To support his statement, he also shows his nails to students. The Principal feels bad for writing with ball pen, Father Flynn (Philip Seymour Hoffman) loves using ball pen for writing.

With very open nature, Father loves to take more sugar in his tea, which is awkwardness in the eye of the Principal.

These are the symbolic values, which Shanley has used to indicate something bigger. Later, only one black student in entire school Donald Miller, he is also an altar boy in the movie, got closeness with the Father. It might be empathy, as Father also wants to keep himself confident in surrounding white society.

Sister James (Amy Adams), a young and naïve teacher, is quite innocent in her gestures. It is the matter of the attraction throughout the movie. Once she receives a call of the Father during the class, asking for the alter boy. When the boy returned after the meeting, she guessed some aberration in his behaviour. Later she notices the Father hiding something in almirah. Turning suspicious over the behaviour of the Father, she checks the hideouts and finds that there is smell of wine spreading from the cloths of the alter boy. Following the incident, she details the principle about suspicious behaviour of the Father.

The whole incident has brought golden opportunity for the Principal and she starts creating problem for him. She uses each and everything she could, to compel the father for the resignation from the church. In the process of conflict, the father succumbs to the conspiracy, especially, to save the student from any aversive consequences of his proximity.

Though, he informs evrything to Sister James and proves that he was not guilty at all. But, fails to prove himself right in front of the Principal. Thus, the power of ‘doubt’ proves its dominance in the scene.

John Patrick Shanley
John Patrick Shanley (screenplay), John Patrick Shanley (play)
Meryl Streep, Philip Seymour Hoffman and Amy Adams

Tuesday, April 5, 2011

ये ऐसे जीतते हैं दिल और दिमाग़

अनिल का यह लेख आज (अप्रैल ६) के जनसत्ता में छपा है.  यहाँ यह बताना अनिवार्य है कि आज के एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक  आखिरकार छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमण सिंह ने स्वीकार किया है कि सुरक्षाबलों ने  उन तीन गाँव  पर कहर बरपाया था, जिसका जिक्र इस लेख में हुआ है. बाकि अनिल आजकल वर्धा में रहते हुए स्वतंत्र लेखन कर रहे है, साथ ही साथ रिसर्च भी.
अनिल मिश्र 

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा ज़िले के चिंतलनार इलाक़े के मोरालपल्ली गाँव से ताज़ा ख़बर यह है कि वहां भूख से छः आदिवासियों की मौत हो गई है. मरने वालों का संबंध भारत ही नहीं, बल्कि दुनिया की प्राचीनतम जनजातियों में से एक मुरिया जनजाति से है. हालांकि, प्रशासन भूख से मौत की पुष्टि नहीं कर रहा है. उसका कहना है कि इन मौतों की वजह बीमारी हो सकती है. और जांच के बाद ही पता लग पाएगा कि मौत की असली वजह क्या है? महाराष्ट्र के अमरावती ज़िले के (कु)चर्चित मेलघाट इलाक़े में जब पहले पहल कुपोषण से भारी तादाद में बच्चों की मौत की घटनाएं सामने आ रही थीं तब भी प्रशासन इंकार कर रहा था कि मौत की वजह भोजन की कमी है. उड़ीसा के कालाहांडी के लिए भी यही तर्क थे. और अब महाराष्ट्र सरकार ने तो आधिकारिक संचार में, फ़ाइलों से, ’कुपोषण’ शब्द को ही ख़त्म कर दिया है. पिछले नवंबर में भेजे आदेश में सरकार का कहना था कि कुपोषण शब्द सुनने में अच्छा नहीं लगता. इससे सरकार की बदनामी होती है.

चिंतलनार इलाके का मोरपल्ली गाँव उन तीन गाँवोँ मेँ से एक है जहां 11, 12 और 16 मार्च को सरकारी सुरक्षाबलों और सरकार समर्थित कुख्यात सल्वा जुडुम गिरोह के विशेष सुरक्षा अधिकारियों (SPOs) ने जमकर कहर बरपाया है. कई समाचार स्रोतों ने पुष्टि की है कि कम से कम पांच ग्रामीणों को गोली मार दी गई, तीन महिलाओं से बलात्कार किया गया और तीन सौ झोपड़ियों में आग लगा दी गई. घटना के बाद जिला कलेक्टर प्रसन्ना एक दल के साथ, राख हो चुके गांव में ज़रूरी भोजन सामग्री, कपड़े और अन्य मानवीय राहत सामग्री पहुंचाने जा रहे थे, लेकिन पुलिस बल और कुख्यात गिरोह सल्वा जुडुम के लोगों ने उन्हें गांवों में जाने से रोक दिया. उनके साथ बदसलूकी भी की गई, धमकियां दी गईं. अंततः सरकारी राहत सामग्री पहुंचाने जा रहे दल को उल्टे पांव लौटना पड़ा.
दंतेवाड़ा का यह इलाक़ा कथित माओवादियों का एक प्रमुख केंद्र माना जाता है. कहा जाता है कि इस क्षेत्र के तक़रीबन चालीस हज़ार वर्ग किलोमीटर में प्रतिबंधित सीपीआई (माओवादी) का शासन चलता है. इसलिए केंद्र सरकार के दिशा-निर्देश और केंद्रीय अर्ध-सुरक्षा बलों की अगुआई में यहां ’इलाक़ा दख़ल गतिविधि’ (एरिया डॉमिनेशन एक्सरसाइज़) संचालित की जाती है. इस एक्सरसाइज़ में राज्य पुलिस के सशस्त्र बल, ज़िला पुलिस और सल्वा जुडुम के विशेष सुरक्षा अधिकारी भी शामिल होते हैं. यह कथित माओवादियों से लड़ने का एक फ़ौज़ी तरीक़ा है.

इसके अतिरिक्त, दावा किया जाता है कि, ’विकास’ की गतिविधियां भी साथ साथ संचालित करने के दिशा-निर्देश हैं. जैसा कि, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह कई बार दुहराते रहते हैं कि ’माओवादी देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए सबसे बड़े ख़तरे हैं. जिनसे निपटना एक अहम चुनौती है.’ लेकिन कभी कभार हमारे प्रोफ़ेसर प्रधानमंत्री आगे भी जोड़ते हैं, जिसका आशय कुछ इस तरह होता है कि ’ये लोग ’निर्धनों में से निर्धनतम’ (पुअरेस्ट ऑफ़ दि पुअर) हैं और इन इलाक़ों में संवेदनशीलता दिखाने के साथ साथ ’विकास’ की ज़रूरत है. 

केंद्रीय गृह-मंत्रालय ने, पी. चिदंबरम के नेतृत्व में, इस फ़ॉर्मूले को अपनी शब्दावली में ऐसे ढाला कि सुरक्षा बल संघर्ष के इलाक़ों में निवासियों के ’दिल-दिमाग़ जीतने’ (विनिंग हर्ट्स एंड माइंड़) का अभियान चलाएंगे. यह शायद माओवादियों के ही उस अनुभव से सबक़ लेने की कोशिश है, जिसके बारे में कहा जाता है कि तीस चालीस साल पहले जब माओवादियों के दस्ते ने छत्तीसगढ़ के इस इलाक़े में प्रवेश किया तो ग्रामीणों, आदिवासियों ने उनमें कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई. फिर माओवादियों ने आदिवासियों की बोली भाषा सीखी, उनकी संस्कृति का सम्मान किया, उसके प्रगतिशील जीवन-मूल्यों को अपनाया और फिर उन्हीं के होकर रह गए. लेकिन गृह-मंत्रालय के दिशा-निर्देश बोली भाषा सीखने और सांस्कृतिक जीवन-मूल्यों के बारे में शून्य हैं. 

आज हालात यह हैं कि मध्य भारत के एक बड़े भू-भाग में गृह-युद्ध जैसी स्थितियां हैं. प्रतिबंधित सीपीआई (माओवादी) का दावा है कि वह इन इलाक़ों में लोगों की असली प्रतिनिधि है. और यहां के बेशक़ीमती खनिज संसाधनों, जल, जंगल और ज़मीन की रक्षा में लोगों के संघर्ष की अगुआई कर रही है. इतना ही नहीं, वह इन संघर्षों के ज़रिये समाज के एक क्रांतिकारी रूपांतरण की योजना की भी बात करती है. अब जबकि संवैधानिक मूल्यों की रक्षा करने के लिए बहुमत द्वारा चुनी ’लोकतांत्रिक’ सरकारें, राजनीतिक सामाजिक तौर तरीक़ों के बजाय, इन इलाक़ों को ’माओवादियों’ के प्रभुत्व से मुक्त कराने के फ़ौजी अभियान चला रही हैं, ज़ाहिर है, लूटपाट, मारपीट, हत्याओं, फ़र्ज़ी मुक़दमों, घर जलाने आदि के अनुपात में अप्रत्याशित बढ़ोत्तरी दर्ज़ की जा रही है. 

सरकार का यह दावा खोखला साबित हो रहा है कि इन इलाक़ों में कथित माओवादियों के कारण ’विकास’ के लड्डू नहीं पहुंच पा रहे हैं. चिंतलनार की हालिया वीभत्स घटनाएं इस धारणा को तथ्यात्मक तौर पर प्रमाणित करती है. बंधुआ मज़दूरी उन्मूलन के लिए चर्चित सामाजिक कार्यकर्ता और आर्य समाजी स्वामी अग्निवेश शुक्रवार को राहत सामग्री के साथ जब इस इलाक़े में जा रहे थे तो उनके क़ाफ़िले पर हमले किए गए. उनके साथ मौजूद पत्रकारों के कैमरे और मोबाइल फ़ोन छीन लिए गए. कई लोगों का मानना है कि सल्वा जुडुम के गिरोह ने यह सब दंतेवाड़ा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एस.आर.पी. कल्लूरी की देखरेख में किया. बाद में, स्वामी अग्निवेश को मुख्यमंत्री रमन सिंह ने 150 पुलिस बल की सुरक्षा के साथ प्रभावित गांवों में जाने देने का आश्वासन दिया. लेकिन दुबारा स्वामी अग्निवेश की नाकेबंदी कर दी गई, उनके साथ फिर बदसलूकी की गई और प्रभावित गांवों तक नहीं जाने दिया गया. याद हो कि स्वामी अग्निवेश ने फ़रवरी महीने में इसी इलाक़े में माओवादियों द्वारा अपहृत पुलिस बल के पांच जवानों को रिहा करने में उल्लेखनीय भूमिका निभाई थी. अब वही स्वामी अग्निवेश जब पुलिस बल की ज़्यादतियों से प्रभावित गांवों के लिए राहत सामग्री लेकर जाते हैं तो पुलिस बल के लिए ’ख़तरनाक़’ हो जाते हैं. पिछले दिनों महाराष्ट्र के गढ़चिरोली ज़िले के एक गांव में भी पुलिस बलों के अत्याचार सामने आए थे. जब ज़िला पुलिस के विशेष सी-60 कमांडों के जवानों ने चार ग्रामीणों की बुरी तरह पिटाई की थी. दूसरे दिन, डीआईजी सुनील रामानंद ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर सफ़ाई दी कि ग्रामीणों पर अत्याचार के मामलो को बढ़ा चढ़ा कर पेश किया जा रहा है. इस इलाक़े में पुलिस बल ग्रामीणों से जनसंपर्क करने के लिए (दिल-दिमाग़ जीतने के लिए) ’जनजागरण मेला’ भी करते हैं. 
क़ानूनविहीनता और संवैधानिक मूल्यों की धज्जियां उड़ाने की घटनाएं दिनोंदिन बढ़ती जा रही हैं. दंतेवाड़ा में हद तो यह थी कि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कल्लूरी ने घटना की रिपोर्टिंग करने पहुंचे पत्रकारों पर ’माओवादी’ होने का आरोप मढ़ दिया. पहले तो वह ऐसी किसी ज़्यादती से ही इंकार कर रहा था. उसका कहना था कि ज़्यादतियों, झोपड़ियों के जलाने की बात ’माओवादियों का प्रचार’ है. यहां यह ज़िक़्र क़ाबिले ग़ौर है कि कल्लूरी वही शख़्स है जो 2006 में सरगुजा में पुलिस अधीक्षक रहते हुए एक आदिवासी महिला से बलात्कार का प्रमुख आरोपी है. इन पंक्तियों का लेखक इस घटना की फ़ैक्ट फ़ाइंडिंग टीम में शामिल था. उस महिला से हमने मुलाक़ात की थी. उसने बताया था कि कल्लूरी के नेतृत्व में वहां के एक बदमाश आत्मसमर्पित नक्सली धीरज जायसवाल के गिरोह ने थाने में कई दिनों तक उसका बलात्कार किया. इस बीच उसकी नवजात बच्ची ज़मीन पर पडी चीख़ती-बिलखती रही. लेधा नगेशिया नाम की इस महिला का पति माओवादियों के दलम में था. पुलिस ने उसके पति को समर्पण करने का लालच दिया. महिला ने अपने पति को समर्पण के लिए राज़ी किया. लेकिन समर्पण के लिए आए लेधा के पति को कई लोगों के सामने गोली मार दी गई. इसके बाद गांव वालों को चेतावनी दी गई कि ऐसे लोगों का यही हश्र होगा. पाठकों को यह बताना ज़रूरी है कि इसी घटना पर चर्चित पत्रकार पुण्य प्रसून वाजपेयी ने एक बेहतरीन रिपोर्टिंग की है जिसे 2007 के रामनाथ गोयनका उत्कृष्ट प्रिंट पत्रकारिता सम्मान से नवाज़ा गया है. यह सम्मान प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने दिया था. 

 तो अब अहम सवाल ’दिल और दिमाग़ जीतने’ का है. क्या व्यवस्था से असहमत, ’विद्रोहियों’, उनके समर्थक समुदाय के सदस्यों के दिल दिमाग़ जीतने का सरकारों का यही तौर तरीक़ा है? एक ओर फ़ौज़ी कार्रवाइयां, (ऑपरेशन ग्रीन हंट) तो दूसरी तरफ़, लगे हाथ ’विकास’ के फ़ॉर्मूले की असलियत यही है कि मकानों, झोपड़ियों और वहां गुज़र बसर करने वाले निवासियों की रची बसी ज़िंदगियां सुरक्षा बलों के बूटों तले कभी भी रौंदी जा सकती हैं. समूचा क्षेत्र एक ख़तरनाक ख़ूनी टकराव के दायरे में विकसित होता जा रहा है. चिंतलनार में मुरिया आदिवासियों की भूख से हुई मौतों को इसी परिप्रेक्ष्य में देखना तर्कसम्मत होगा. यह ’विकसित’ होते ’इंडिया’ की एक व्यवस्थाजन्य भयावह त्रासदी है. जहां पहले गांव के गांव जलाए जा रहे हैं, फिर मानवीय राहत सामग्रियों तक की नाकेबंदी कर ग्रामीणों को भूख से मरने के लिए छोड़ दिया जा रहा है, जो कि अंतर्राष्ट्रीय मानवीय क़ानूनों का खुला उल्लँघन है.  

स्वामी अग्निवेश के क़ाफ़िले पर हमले के बाद कल्लूरी का ट्रांसफ़र कर दिया गया है. लेकिन उसे फिर उसी सरगुजा में डीआईजी बनाकर भेज दिया गया है. यह ट्रांसफ़र के साथ पदोन्नति का बेहतरीन ईनाम है. विडंबना है कि उसके साथ कलेक्टर प्रसन्ना को भी दंतेवाडा से विदाई दे दी गई है. जबकि प्रसन्ना मानवीय राहत सामग्री पहुंचाने में जुटे हुए थे. इस मसले पर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की चुप्पी याद रखने लायक़ है, जो अपनी बहसों में ’देश की आवाज’ का खट-राग अलापता है.

सरकार संसाधनों को जिस धुन में कॉर्पोरेट घरानों को सौंप रही हैं उससे समूचे विकास की दिशा पर अहम सवाल पैदा होते हैं. इसके ख़िलाफ़ जो भी समूह या संगठन आवाज़ उठाते हैं उन्हें माओवादी के ठप्पे लगाकर बदनाम करने की आपराधिक चालें चली जा रही हैं. ऐसे मेँ, जनसंघर्षों के वास्तविक मुद्दों को संबोधित करने की पहलक़दमी के बजाय, ’दिल दिमाग़ जीतने’ के ये दिखावटी नुस्ख़े कब तक टिकेंगे?

Friday, March 11, 2011

'ए', 'बी', 'सी', 'डी' से जुडी एक घटना की याद.

('नयी बात' पर 'कला का आदर'  नाम से पोस्ट पढ़कर उसके के लिए कामेंट लिखा. पर शायद इसकी लम्बाई अधिक होने से उसपर पोस्ट नहीं हो पाया. उसे यहाँ पब्लिश कर रहा हूँ. नयी बात के उस पोस्ट को देखने के लिए आप यहाँ क्लिक करें...http://nayibaat.blogspot.com/2011/03/blog-post.html)

 पोस्ट पढ़ते हुए एक घटना याद गईतब मै कक्षा 'शिशु' का छात्र था. अभी मुझे ', बी, सी, डी' नहीं आती थी. इसे सिखाये जाने का चहुओर प्रयास जारी था. घर में पापा और स्कूल में आचार्य जी (आचार जी). एक दिन पढ़ाते हुए पापा ने मेरी कॉपी में ', बी, सी, डी' लिख डाली . खूब सुन्दर, गोल गोल अक्षरों में.

कुछ दिनों बाद स्कूल के सबसे 'मरखाह' अचार जी ने हमें कक्षा में ', बी, सी, डी' लिखने को कहा. और कह के कहीं चले गए.  जैसा के अक्सर होता है,  मै बात-चीत में व्यस्त हो गया. भूल गया शायद की बात-चीत के सिवा जीवन में कुछ और भी जरुरी होता है.

उस समय की मेरी उम्र का अंदाजा ऐसे लगाया जा सकता है कि अम्मा मेरी आँखों में काजल लगाकर स्कूल भेजती थी और मुझे इसके लिए खूब चिढाया जाता था. उस उम्र की ये भी एक बड़ी आफत थी.मै जर-जमा पांच का था.

खैर, मै बात-चीत में व्यस्त था. अति-व्यस्त. तब तक आचार जी धमके और कॉपी ताबड़तोड़ जांच होने लगी.

मेरे सारे साथियों ने अपने प्रयास दिखाने शुरू किये. सबने सही में  संघर्ष किया थावस्तुस्थिति  को  देखकर मेरे होश उड़ गए. अब कुछ किया भी नहीं जा सकता था. मेरा भी नंबर आ गया, जिसे नहीं आना चाहिए था. जैसे कयामत गई.
मुझे अपनी जगह से उठकर अचार जी के पास तक जाना. क्या बताऊँ कितना तकलीफदेह साबित हो रहा थापैर जैसे जमीन में धंस गए थे. पैंट गीला होने को था. उस अतिशीघ्र ख़त्म हो जाने वाले तीनो-लोको की यात्रा के दौरान मै झूठ-मुठ में कॉपी के पन्ने पलटे जा  रहा था, जैसेकि दिखा रहा होऊं की मैंने भी खूब लिखा है, बस लिखा हुआ  कॉपी में  कहीं ग़ुम हो गया है और खोजना मुश्किल हो रहा है . यह और कुछ नहीं बस अवश्यम्भावी  कुटम्मस को यथा-संभव टालने का संघर्ष भर था.

पर जैसा कि कहा जाता है कि इश्वर भी उसी को मदद करता है, जो संघर्ष करता है. ऐसा ही कुछ मेरे साथ भी हुआ. पन्ने पलटने के दौरान मैंने पाया की  मुझे मार से बचाने वास्ते ईश्वर  ने मेरी कॉपी में  ', बी, सी, डी' लिख डाली है . मैंने कॉपी अचार जी को थमा दी. लो भईया चेक कर लो.

आज के  अनुभव से तो यही कहा जा सकता है की मेरे बालमन ने अचार जी को अन्डर-इस्टीमेट कर दिया था और छोटे खतरे से बचने के चक्कर में बड़ा खतरा मोल ले लिया था.

मेरा तेवर देख अचार जी आश्चर्यचकित. दरअसल उन्होंने मुझे बातचीत करते हुए देखा था और पूरे  मूड में थे. उन्होंने पूछा, "तुमने लिखा है?"मैंने कहा " हाँ". उन्होंने फिर कहा, "तुमने?", मैंने फिर कहा, "हाँ". ये "तुमने?" और " हाँ" का सिलसिला लम्बा चलाअब अचार जी ने मुझे  महज धोना नहीं, बल्कि पूरी फजीहत के साथ  धोने का मन बना लिया  थामेरे अथक प्रयास के बाद भी स्थिति संभल नहीं रही थी और इधर "हाँ" कहते- कहते मेरा चेहरा वगैरह  सब लाल हुआ जा रहा था

मेरी ढीठाई से आग-बबूला हुए अचार जी ने आदेश दिया  की मेरे सामने  लिख के दिखाओ.

क्या बताऊँ के सिर्फ एक '' लिखने भर में  कितनी दफा लिखना और मिटाना पड़ा था. मैं लिख कम रहा था और मिटा ज्यादा रहा था. '' तो बहुत दूर की बात हुई, इसे लिखे जाने में इस्तेमाल होने वाले  चार लाईनों में  एक भी लाइन सीधी नहीं खींच पा रही थी. कितनी दफा 'भगवान से प्रार्थना की थी कि किसी तरीके से '' हु--हु लिखा जायेअभी 'बी' से लेकर 'जेड' तक का संघर्ष बाकी था.

पर ठीक वैसा ही '' लिखना कहाँ संभव था! भगवान ने कभी आजतक जरुरतमंदो की सुनी है कि मेरी सुनते... सारा खेल उल्टा पड़ गया...

अचार जी मेरा बाल पकड़ के हिला रहे थे. दांत भी पिसे जा रहे थे. वही पुराना सवाल बस अंदाज बदला हुआ, "तुमने लिखा है?"  मैंने भी हार नहीं मानी थी और, "हाँ" कहे जा रहा था.

मुझे हार नहीं मानते हुए देख उन्होंने पूछा, "तो फिर अभी क्यों नहीं लिख पा रहे हो?" मेरा तर्क यह  था की आप सामने बैठे हो और मुझे डर लग रहा है, इसलिए मै लिख नहीं पा रहा हूँ.

उस दिन स्कूल की घंटी ने बहुत साथ दिया. घंटी बज गई और मै कुटम्मस से बाल-बाल बच गया. दरअसल, '', 'बी', 'सी', 'डी' मेरे पापा ने दो-तीन दिनों पहले मेरे उसी कॉपी में लिखा था.

इन सारे अनुभवों से गुजरते हुए मैंने यही पाया की स्कूल में  दूसरे का लिखा कभी नहीं दिखाना चाहिए वरना मुश्किल बढ़ जाती है.